Google search engine

RAJNITI KA BADALTA ROUP,DELHI KE BAD MIZORAM ME , ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट के संरक्षक लालदुहोमा

2012 में दिल्ली से कांग्रेस की पकड़ लगातार कमजोर होती रही। दिल्ली में चुनाव हुए और एक नयी पार्टी अरविंद केजरीवाल की ‘आम आदमी पार्टी’ ने दिल्ली की सत्ता से कांग्रेस को उखाड़ फेंका। दिल्ली की ‘आप’ 2011 के अन्ना हजारे वाले ‘लोकपाल आंदोलन’ से निकली थी। अन्ना तो अपने उसूलों पर रहे लेकिन उनके चेलों से अपने लिए राजनीतिक सफर पक्का कर लिया। ऐसा ही कुछ दिल्ली से 2000 किलोमीटर दूर उत्तर पूर्व भारत के मिजोरम राज्य में हुआ, जहां सालों से सत्ता पर कब्जा बनाए बैठी राजनीतिक पार्टियों की नींव हिल गयी।
दिल्ली से 2000 किलोमीटर दूर उत्तर पूर्व भारत के मिजोरम राज्य में सालों से सत्ता पर कब्जा बनाए बैठी राजनीतिक पार्टियों की नींव हिल गयी। जब पांच साल पहले बनीं एक पार्टी ने सभी पुरानी पार्टियों के झंडे को मिजोरम विधानसभा चुनाव 2023 में अपनी प्रचंड जीत के साथ उखाड़ कर फैंक दिया। मात्र पांच साल पहले बनीं पार्टी को बनाने के लिए राज्य के ग्रामीण और कुछ 6 छोटे-छोटे राजनीतिक दलों ने मिलकर एक ग्रुप बनाया। इस ग्रुप का नाम ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट (जेडपीएम) था। इस समुह ने छोटी मोटी शुरूआत करते हुए पहले लोगों के दिलों में जगह बनाई और फिर एक राजनीतिक पार्टी। ZPM की क्रांति इस बार मिजोरम विधानसभा चुनाव में देखी जा रही है। इस पार्टी को 74 वर्षीय पूर्व आईपीएस अधिकारी लालदुहोमा लीड कर रहे हैं। अब मिजोरम में पार्टी को बहुमत हासिल हो गया है और लालदुहोमा ही मिजोरम के मुख्यमंत्री बनने वाले हैं। आखिर लालदुहोमा कौन है। मिजोरम के लोगों ने उनको इतना प्यार कैसे दिया। कैसे बनीं जेएडपीएम, जानते हैं पूरी कहानी-
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट कैसे बनीं?
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट विधायक और पूर्व संसद सदस्य, लालदुहोमा के नेतृत्व में गठित छह क्षेत्रीय पार्टी गठबंधन है। यह पांच साल पहले बनीं थी और 2019 में ही इस पार्टी को चुनाव आयोग से मान्यता मिली थी। पार्टी भारत में धर्मनिरपेक्षता और धार्मिक अल्पसंख्यकों की सुरक्षा में विश्वास करती है। 2018 मिजोरम विधानसभा चुनाव में, यह आंदोलन समूह के रूप में उभरा है और समान प्रतीक, ध्वज और नीति के साथ कुछ स्वतंत्र उम्मीदवारों का समर्थन कर रहा था। इस पार्टी ने 2018 में 8 सीटें जीती थी। ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट को आंदोलन समूह से एक राजनीतिक दल के रूप में सुधार किया गया था।
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट इतिहास
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट (ZPM) ने मिजोरम विधानसभा चुनावों में 40 में से 36 सीटों पर चुनाव लड़ा, और हाल ही में 2018 मिजोरम विधान सभा चुनाव में 8 सीटें जीतीं। ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट को मिज़ोरम में मिज़ो नेशनल फ्रंट और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का राजनीतिक विकल्प बनाने के लिए बनाया गया है। उन्होंने शराब पर दोबारा प्रतिबंध लगाने के मंच पर चुनाव लड़ा। ज़ोरम लोगों के आंदोलन को 21 जनवरी, 2019 को एक अनुरोध प्रस्तुत करने के बाद जुलाई 2019 में भारत के चुनाव आयोग के साथ आधिकारिक तौर पर पंजीकृत किया गया था।
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट सदस्य दल
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट एक गठबंधन आंदोलन है, इसके सदस्य मिजोरम पीपुल्स कॉन्फ्रेंस, ज़ोरम नेशनलिस्ट पार्टी, ज़ोरम एक्सोडस मूवमेंट, ज़ोरम विकेंद्रीकरण मोर्चा, ज़ोरम रिफॉर्मेशन फ्रंट और मिज़ोरम पीपुल्स पार्टी हैं। बाद में ये सभी पार्टियाँ एक इकाई में विलीन हो गईं।
ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट के संरक्षक लालदुहोमा
मिजोरम की राजनीति में लालदुहोमा एक चर्चित नाम है। वो 1977 बैच के IPS अधिकारी रह चुके हैं। लालदुहोमा पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के सिक्योरिटी इंचार्ज भी रहे हैं। बाद नें उन्होंने भारतीय पुलिस सेवा से इस्तीफा दे दिया था और राजनीति में आ गए थे। ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट के 74 वर्षीय संरक्षक, लालदुहोमा ने शुरुआत में भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के एक अधिकारी के रूप में अपना करियर शुरू किया और तटीय राज्य गोवा में सेवा की। फिर उन्हें राष्ट्रीय राजधानी में स्थानांतरित कर दिया गया जहां उन्होंने तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की सुरक्षा के प्रभारी के रूप में अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया। सेवा से बाहर आने के बाद, उन्होंने ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट (ZPM) की स्थापना की और 1984 में लोकसभा में प्रवेश करके इतिहास रच दिया।
हालाँकि, उनकी राजनीतिक गति में तब बदलाव आया जब वह दल-बदल विरोधी कानून के तहत अयोग्यता का सामना करने वाले पहले सांसद बने। असफलता के बावजूद, लालदुहोमा ने पूर्वोत्तर राज्य में काम करना जारी रखा और अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। पिछले विधानसभा चुनाव में, उन्हें ZNP के नेतृत्व वाले ज़ोरम पीपुल्स मूवमेंट (ZPM) गठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में चुना गया था। दलबदल विरोधी कानून का उल्लंघन करने के लिए उन्हें 2020 में विधान सभा के सदस्य के रूप में भी अयोग्य घोषित कर दिया गया था, लेकिन उन्होंने 2021 में सेरछिप सीट के लिए उपचुनाव जीता
Google search engine

Arjun Bhoomi

अर्जुन भूमि - Call : +91.7017821586 Email : arjunbhoomi2017@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

18 देशों से 500 प्रदर्शक इम्टेक्स फॉर्मिंग 2024 में लेंगे हिस्सा

Tue Dec 5 , 2023
Post Views: 41 देहरादून, । इमटेक्स फॉर्मिंग 2024 इंडियन मशीन टूल मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (आईएमटीएमए) अपने विशेष एक्सपो मेटल फॉर्मिंग मशीन टूल प्रदर्शनी के आठवें संस्करण का आयोजन करेगा। इमटेक्स फॉर्मिंग 2024 – धातु निर्माण और विनिर्माण प्रौद्योगिकि जगत में एशिया की सबसे बड़ी प्रदर्शनी आगामी 19 से 23 जनवरी, 2024 […]

You May Like

Topics